मंगलवार, अक्तूबर 27

नशे की गिरफ्त में दुनिया

कौन कहता है शराब पीना या सिगरेट पीना ही सिर्फ बुरी लत्त या यू कहें की नशा है...? लत्त अब कई तरह के हो गए हैं... जैसे इंटरनेट की लत्त....फोन पर बाते करने की लत्त...टीवी देखने का नशा... कुछ ख़रीदने यानी शॉपिंग का नशा...आधुनिक उपकरण बाज़ार में आए नहीं की उसे झट से ख़रीद लेने का नशा...ज्यादा बोलने की लत्त...कुछ लिखने या पढ़ने का नशा......घूमने की लत्त......खेलने का नशा...और भी कई तरह का नशा हैं
नेट का नशा
इनमें इंटरनेट का नशा आज सिर चढ़कर बोल रहा है...युवा ही नहीं बच्चे भी इंटरनेट से चिपके नज़र आते हैं...नेट पर घंटों बीत जाता हैं और पता ही नहीं चलता...सारे कामकाज छोड़कर लोग नेट पर बैठे रहते हैं...लोग हर रोज़ सुबह-शाम अपना मेल चैक करना नहीं भूलते...नेट ऐसा माध्यम बनता जा रहा है जिसके बिना लगता है सारा काम अधूरा है...नेट पर चैट करना हो या विडियो कॉन्फ्रेंसिंग...लोग इनमें खूब समय बर्बाद करते हैं....और रम जाते हैं...बच्चों के लिए तो गेम्स की भरमार नेट पर मौजूद है...पिक्चर्स देखनी हो गाने सुनने हो या फिर खेल की ताज़ा जनाकारी लेनी हो…पलक झपकते ही आपके सामने सबकुछ हाज़िर है...ऐसा लगता है अलादीन का चिराग हो नेट...समाचार जानना हो या किसी गहन मुद्दे की अपटुडेट जानकारी हासिल करनी हो सबकुछ आपको मिल जाएगा इसपर...आप नेट के माध्य से दुनियाभर से जुड़ सकते हैं...आज तो फोन पर भी नेट मुहैया करा दी गई है...लोग दिनरात नेट से जुड़े रहते हैं...वैसे बड़े काम की चीज़ है ये नेट...और इसका नशा ऐसा कि एक बार लग जाए तो जीवनभर आप इससे छुटकारा नहीं पा सकते...

फोन की लत्त
मोबाइल ही नहीं लैंडलाइन पर भी लोग घंटों बतियाते रहते हैं...ऐसा नहीं है कि लोग हर समय काम की ही बातें करते हैं...लोगों के पास ढेर सारा समय है फोन पर बर्बाद करने के लिए...दिनभार की जानकारी हासिल करनी हो या किसी की चुगली करनी हो लोग फोन का सही इस्तेमाल करना जानते हैं…प्रेमी प्रेमिका के लिए तो बड़े काम की चीज़ है ये फोन औऱ ऊपर से फोन पर कुछ चार्ज लेकर 24 घंटे फ्री सेवा ने तो इनका काम और भी आसान कर दिया है...एक दिन आपका फोन खराब हो जाए या आपका फोन गुम हो जाए ऐसा लगता है जैसे दुनिया से आप बिल्कुल कट से गए हों...

टीवी देखने या
न्यूज पेपर पढ़ने का नशा
ये भी अजीब बीमारी है इसके मरीज़ बिना टीवी देखे या बिना अखबार पढ़े एक दिन भी नहीं रह सकते...वैसे टीवी यानी बुद्धू बॉक्स ने सबके मनोरंजन का ठेका उठा रखा है...हर वर्ग को ध्यान में रखकर इसमें मनोरंजन के साधन उपलब्ध कराए जाते हैं...घर की गृहणियों के लिए सास बहू के सीरियल और फिल्मी जगत की चटर-पटर हैं तो वहीं युवाओं के लिए अनेक संगीत और खेल चैनल...बुजुर्गों के लिए समाचार और अर्थव्यवस्था से जुड़ी खबरें हैं योगा और हास्य मनोरंजन से भरपूर सीरियल हैं तो बच्चों के लिए कार्टून और ढेर साले रियलीटि शो हैं
वहीं अखबार एक दिन देर से ही सही लेकिन लोगों को लिखित जानकारी मुहैया कराता है...इतनी सारी चीज़ें आपको एक साथ मिल जाए तो आप भला इनके चंगुल से खुद को कैसे बचा सकते हैं?
शॉपिंग का नशा
कुछ लोगों को शापिंग का नशा इस कदर होता है कि बाज़ार में चीज़ आई नहीं की बस इसे ख़रीदना हैं...महिलाओं और लड़कियों को जहां कपड़े और गहने ख़रीदने का नशा होता है नए डिजाइन के कपड़े बाजार में आए और उनके पास वो परिधान होने चाहिए...उस डिजाइन के गहने पहनने हैं तो पहनने हैं...वहीं युवाओं को नई बाइक्स औऱ नया हैंडसेट (मोबइल) खरीदने का नशा छाया रहता है...कुछ लोगों को नई गाड़ी ख़रीदने का नशा होता है तो कुछ को नया घर खरीदने का...

बोलने की लत्त
कुछ लोग इतने बातूनी होते हैं कि उन्हें ख़ुद ही नहीं पता होता है कि वे क्या बोल रहे हैं...कब क्या बोलना है...इससे अनजान वे कभी भी कुछ भी बोल जाते हैं...कई बार अपनी इस हरकत के कारण तो वे लोगों का भरपूर मनोरंजन करते हैं लेकिन कई बार अपनी इस आदत के कारण बुरी तरह फंस भी जाते हैं...लेकिन उनके मुंह पर ताला नहीं लगाया जा सकता...वैसे बोलना भी एक कला है…जो सबके बस की चीज़ नहीं…कुछ लोग तो अपने बोलने की आदत से ही लोगों के बीच मशहूर हो जाते हैं...और लोगों को उनकी कमी खलती है

लिखने या पढ़ने का नशा
अपनी भावनाओं को व्यक्त करने के लिए कुछ लोग लेखन कार्य पर भरोसा करते हैं...वैसे भी अभिव्यक्ति का सबसे सशक्त माध्यम है लेखन कला...इसके माध्य से आप अपने दिल की बात बेहद आसानी से दुनिया के सामने रखते हैं...कुछ लोगों को लेखन का बड़ा शौक होता है...बिना लिखे उनका वक्त ही नहीं गुज़रता...वैसे ये ऐसा माध्यम है जो आपको मर कर भी अमर बना सकता है...कई लेखक...शायर...कवि...पत्रकार अपनी लेखन कला से मरकर भी अमर हो गए...दुनिया आज भी उन्हें याद करती है...और लोग उसे पढ़ते हैं उनका सम्मान करते हैं...
देखा जाए तो कुछ लोगों की पढ़ने का ऐसा चस्का होता है कि वो अपनी किताबों में इस कदर खो जाते हैं कि उन्हें पता ही नहीं चलता की उनके आस-पास हो क्या रहा है...दीन-दुनिया से बेख़बर वो अपनी किताबों में आंखें गड़ाए रहते हैं...
एक बार मैं अपने पापा के साथ एक एक्जाम देने बनारस जा रही थी...ट्रेन में मैंने एक लड़की को देखा...देखने में तो वो टॉम ब्वॉय जैसी लगी...वो भी मेडिकल का एक्जाम देने दिल्ली जा रही थी...मोटी सी किताब उसके हाथ में....हालांकि मैं भी अपनी किताबों में खोई थी...लेकिन उस लड़की ने तो सुबह १० बजे से शाम ६ बजे तक लगातार आंखें गड़ाए रखा...मैंने तो बीच में थोड़ी देर के लिए आराम भी किया लेकिन उसने अपनी पलकें एक पल के लिए भी नहीं झपकी...मैं उसे देखकर दंग रह गई


घूमने का नशा
कुछ लोगों का देश दुनिया घूमने का नशा होता है...वैसे देखा जाए तो हर इंसान के दिल में दुनिया देखने की इच्छा होती है...कुछ लोग अपनी छुट्टियों का भरपूर फायदा घूमकर ही तो निकालते हैं...देश विदेश के पर्टयन स्थलों के साथ साथ लोगों को एडवेचर्स प्लेस जाने का भी नशा होता है...इसके लिए लोग नदी...तालाब..पहाड़ की कंदराओं गुफाओं में खोज पर निकलते हैं..बर्फीले पहाड़ों पर घूमते हैं...समुद्र की गहराइयों को नापते हैं...वैसे ये नशा है बड़ा ही शानदार...और दिलचस्प खेलने की लत्त
खेल के नशे की गिरफ्त में दुनियाभर के आधे से ज्यादा लोग घिरे हैं...क्रिकेट के प्रति लोगों की दीवानगी तो सबसे ज्यादा है...देखना ही नहीं लोग स्वयं खेलना भी बेहद पसंद करते हैं...लड़कों के लिए तो क्रिकेट सबसे रोचक खेल है...हर वर्ग के लोग इसको इंज्वॉय करते हैं...खासतौर पर जब इंडिया और पाकिस्तान के बीच मैच हो तो...मैच ऐतिहासिक बन जाता है...कई घरों में तो टीवी तक लोग फोड़ डालते हैं...भले ही हर महीने कोई न कोई मैच आयोजित हो रहे हैं...लेकिन लोगों की दीवानगी देखते ही बनती है...इसके अलावा भी कुछ लोग हॉकी, टेनिस और अन्य खेलों के प्रति रुझान दिखातें हैं...खासतौर पर जब मैराथन का आयोजन होता है तो प्रतिभागियों के साथ-साथ नेता और अभिनेता भी इसमें अपनी भागिदारी निभाते हैं

कुल मिलाकर देखा जाए तो आज पूरी दुनिया किसी न किसी नशे की गिरफ्त में हैं

3 टिप्‍पणियां:

  1. आपकी इस पोस्ट को मैं बहुत कामयाब व सार्थक पोस्ट कहूँगा. आप लिखते रहें बेशक कोई न बोले.
    ---

    अंतिम पढ़ाव पर- हिंदी ब्लोग्स में पहली बार Friends With Benefits - रिश्तों की एक नई तान (FWB) [बहस] [उल्टा तीर]

    उत्तर देंहटाएं
  2. Aap apne likhne ka nasha barkarar rakhna....Best of luck!!!!

    waiting for new one...

    उत्तर देंहटाएं
  3. Aap apne likhne ka nasha barkarar rakhna....Best of luck!!!!

    waiting for new one...

    उत्तर देंहटाएं