शनिवार, अप्रैल 10

हमारे सेलिब्रिटी

संगीत भला किसे पसंद नहीं.....मेरा तो संगीत से न जाने क्या रिश्ता है....संगीत सुने बिना मैं एक दिन भी नहीं रह सकती...मेरी तो रग-रग में जैसे संगीत बसा हो....दिनभर की व्यस्तता के बावजूद कुछ पल संगीत के लिए निकाल ही लेती हूं....मुझे संगीत से बड़ा लगाव रहा है....जैसे ही खाली वक्त मिलता है मैं संगीत सुनने बैठ जाती हूं...यूं कहें मैं संगीत की धुन में खो सी जाती हूं...फिर उसके एक-एक शब्द मेरी अंतर आत्मा दोहराती हैं....मैं घंटों बिना कुछ बोले चुपचाप संगीत की धुन में खोई रहना चाहती हूं...बस वो मेरी पसंद के गीत होने चाहिए...मैं फिल्मी गाने, गजल, इंडीपॉप, वेस्टर्ण संगीत, रिमिक्स, ओल्ड गाने पसंद करती हूं....संगीतकारों में जाने माने संगातकार पसंद है...चुनिंदा संगीतकार हैं जिन्हें मैं बचपन से सुनती आई हूं....जिनसे मेरी आत्मियता जुड़ी है...




अब जिसे संगीत से इतना जुड़ाव हो...वो भला अपने शहर में होने वाले संगीत कार्यक्रमों को कैसे छोड़ सकता है....मेरे शहर में संगीत संध्या का आयोजन किया गया...जिसमें जाने-माने गज़ल गायक जगजीत सिंह शिरकत करने आ रहे थे....मैं उनसे मिलने का मौक चूकना नहीं चाहती थी....मैं बचपन से उनकी गजलें सुनती आई हूं...इसलिए मैंने जाने की पूरी तैयारी कर ली....अपनी सुबह की शुफ्ट खत्म होने के बाद शाम को मैं उनसे मिलने पहुंची....इससे पहले उनसे बात हुई थी तो पता चला की वो दोपहर 1 बजे वो आए हैं..इसलिए 6 बजे तक तो होटल में सोएंगे...शाम को 7 बजे उनसे मिलने का समय तय हुआ...दरअसल ये आयोजन रिसॉर्ट वालों ने आयोजित करवाया था...हमारी रिसॉर्ट प्रमुख से पहले ही बात हो गई मिलने के लिए उन्होंने दो मिनट का समय दिया....मेरे साथ एक और रिपोर्टर थी....हमें वहां पहुंचने में थोड़ी देर हो गई....दरअसल हम थोड़ी देर ट्रैफिक जाम में फंस गए...

लेकिन जब हम वहां पहुंचे तो हमने देखा वो पहले से ही पहुंचे हुए थे...बड़ा आश्चर्य हुआ...क्योंकि जगजीत जी मुझे समय के बड़े पक्के लगे...वहां और कई मीडियावाले पहुंचे हुए थे...सभी उनका इंटरव्यू ले रहे थे...हमने अलग से मिलने का समय मांगा लेकिन उन्होंने मना कर दिया....हमने थोड़ा निवेदन किया..उन्होंने कहा ठीक है देखते हैं...फिर हमने रिसॉर्ट प्रमुख से बात की उन्होंने कहा रुकिए हम मैनेज करते हैं...सभी मीडिया वालों से निपटने के बाद उन्होंने हमे थोड़ा वक्त दिया...हमारे साथ उनकी EXCLUSIVE बातचीत हुई….जिसमें उन्होंने अपनी जिंदगी की कुछ अनोखी बातें share की....कुछ गीत भी सुनाए.... EXCLUSIVE बातचीत मीडिया वालों के लिए काफी मायने रखती हैं...औऱ हर मीडिया पर्सन चाहता है कि उन्हें EXCLUSIVE मिले...लेकिन ऐसा हो नहीं पाता और मीडिया वाले झल्लाते हैं...ऐसा करना उचित नहीं है क्योंकि कोई सेलिब्रिटी सबसे EXCLUSIVE बातचीत नहीं कर पाता...वो मीडिया का LOGO देखकर ही बातचीत करने को तैयार होता है...हालांकि ज्यादातर सेलिब्रिटी मीडिया फ्रेंडली होते हैं और आसानी से बातचीत के लिए तैयार हो जाते हैं लेकिन कुछ बड़ी मशक्कत के बाद बातचीत को तैयार होते हैं...इसके पीछे कारण ये होता है कि उनके पास समय की कमी होती है और वो सबसे बातचीत करना उचित नहीं समझते...ऐसे में कई बार तो मीडिया वाले ही जानबूझकर हंगामा मचाते हैं और उनके कंसर्ट में बाधा पहुंचाने की कोशिश करते हैं....हालांकि इस बार ऐसा कुछ नहीं हुआ...

उनसे मिलने के बाद उनके आयोजन स्थल पर हम पहुंचे....जहां 8 बजे से उनका संगीत कार्यक्रम था....बिल्कुल निर्धारित समय पर वो आए...कुछ देर स्टेड के पीछे जाकर उन्होंने गला साफ किया...साढ़े आठ बजे वो मंच पर पहुंचे...तब तक FM रेडियो जॉकी स्टेज संभाल रहा था...जैसा कि अक्सर होता है....कार्यक्रम की शुरूआत में खूब तामझाम परोसा जाता है जिससे दर्शक बोर होकर देखने को मजबूर होते हैं....कंसर्ट के आयोजकों ने जगजीत का स्वागत किया....हालांकि ये स्वागत कार्यक्रम लंबा खिंच रहा था और फूलों के बुक्के ले-लेकर जगजीत जी परेशान हो रहे थे...उन्होंने स्वागत कार्यक्रम जल्द निपटाने का संकेत दिया...आयोजकों ने जल्दी बीच में ही इसे बंद करना उचित समझा...सबसे पहले उन्होंने स्टेज पर आ रही कड़ी रौशनी कम करने का अनुरोध किया...अब आयोजकों ने रौशनी स्टेज की रौशनी कम की....उसके बाद स्टेज संभालते हुए उन्होंने अपनी आवाज का जादू बिखेरा...उनकी गजलों का सिलसिला शुरू हुआ...दर्शक मंत्रमुग्ध होकर सुनते रहे...शुरू में तो उन्होंने कुछ पुरानी गजलें सुनाई ताकि मीडिया पर्सन जल्द कार्यक्रम की शूटिंग पूरी कर अपने अपने ऑफिस लौट जाए...ऐसा अक्स इसलिए किया जाता है कि उन्हें डर रहता है कि कहीं उनके गजलों की पायरेटेड सीडी न बन जाए मीडियावालों को खबरें जल्द दिखाने को होड़ रहती है इसलिए शुरू के एक दो गाने शूट कर वो लौट जाते हैं...हमने भी ऐसा ही किया एक दो गजलें सुनने के बाद हम लौट आए.....



ये कंसर्ट तो सफल रहा...लेकिन इससे कुछ महीने पहले हमारे शहर में कैलाश खेर का कंसर्ट रखा गया...हालांकि कंसर्ट में तो कुछ नहीं हुआ लेकिन कंसर्ट के बाद कैलाश ने सुरक्षा व्यवस्था पर सवाल खड़े किए और कहा कि उनके साथ बदसलूकी हुई है....हालांकि मैं उनके कंसर्ट में नहीं गई थी...क्योंकि मुझे कैलाश के गाने ज्यादा पसंद नहीं है....मुझे ऑफिस में पता चला...मेरे साथ क्राइम रिपोर्टर उस वक्त बैठे थे मैंने पूछा क्या हुआ कैलाश ने ऐसे आरोप क्यों लगाए? क्राइम रिपोर्टर ने मेरे सामने एस पी को फोन लगाया और मामले की जानकारी ली...पता चला कि कैलाश ने काफी पी रखी थी और उलटे सुरक्षा गार्ड को खूब खरी-खोटी सुनाई थी....तंग आकर सुरक्षा गार्ड ने एसपी से बात की औऱ कैलाश की शिकायत की...कैलाश उसके साथ काफी बदसलूकी कर रहे थे...एसपी ने उसे वहीं छोड़कर वापस आ जाने को कहा..कैलाश को आधी रात रास्ते में छोड़कर सुरक्षा गार्ड वापस पुलिस मुख्यालय लौट आया...




हमारे ऑफिस की ओर से भी पिछले साल कार्यक्रम का आयोजन किया गया...जिसमें कई जानी मानी हस्तियों ने शिरकत की लेकिन यहां से लौटने के बाद किसी ने भी सुरक्षा व्यवस्था की शिकायत नहीं की...इस आयोजन में मशहूर संगीतकार सुखविंदर भी आए थे जो गीत गाते-गाते दर्शकों के बीच पहुंच जाते थे...दर्शक उनकी संगीत के दीवाने हैं लेकिन किसी प्रकार की कोई अप्रिय घटना नहीं हुई....हालांकि दर्शकों ने उनके जाने के बाद ये शिकायतें की कि वो खुद गाने ना गाकर पर्फोर्मेंस पर ज्यादा ध्यान दे रहे थे...शुरू में एक दो गाने उन्होंने अपनी अपनी आवाज में गाए लेकिन बाद में वो अपने गानों पर डांस करने लगे जिसे दर्शकों ने नकारा...उनकी आवाज के सभी कायल हैं कई मशहूर फिल्मी गानों में उन्होंने अपनी अवाज दी है.....फिल्म अभिनेत्री करिश्मा तन्ना और ‘’रॉकेट सिंह....सेल्समैन ऑफ द इयर’’ में काम करनेवाली अभिनेत्री गोहर खान भी आई थी....वहीं मशहूर अभिनेत्री प्राची देशाई....जिसे लोग वाणी के नाम से जानते हैं...से मिलने का मौका मिला....लोग कहते हैं अभिनेत्रियां खुले विचारों की होती है और उनके लिए रिश्तों की कोई अहमियत नहीं होती उनके लिए जिस्म का सौदा कोई बड़ी बात नहीं...मैंने भी ये बाते सुन रखी थीं...लेकिन मैंने देखा दो अभिनेत्रियां अपने-अपने परिजनों के साथ आई थीं...उनके साथ उनकी मां आई थी... हालांकि गौहर अकेली आई थीं लेकिन प्राची के साथ तो उनकी मां और मौसी दोनों आई थी...सबसे बातचीत का मौकी मिला...उनकी जिन्दगी की कुछ अहम और चटपटी बातें जानने को मिली...उन सभी कलाकारों का मेकअप हमारे ऑफिस के मेकअप आर्टिस्ट ने किया था....उन्होंने प्राची से उसका फोन नंबर मांगा उसने बड़ी आसानी से नंबर दे दिया...और अब भी जब वो मेकअप आर्टिस्ट उन्हें मैसेज करती हैं तो वो उसका जवाब देने से नहीं कतराती....

4 टिप्‍पणियां:

  1. celebrities are also normal human beings like all of us...

    उत्तर देंहटाएं
  2. अच्छा लगा आपके द्वारा इन सेलेब्रिटिज के बारे में जानकारी. कैलाश खेर का वाकिया सुनकर जरा आश्चर्य हुआ.

    उत्तर देंहटाएं
  3. bahut maza aaya padhkar is shaandar report ko.. lekin words tod kar alphabates itne door-door kyon kar diye???

    उत्तर देंहटाएं
  4. अच्छा लगा पढकर.. जगजीत जी मेरे फ़ेव है :P

    उत्तर देंहटाएं